atharves-logo

Atharves

Awareness Training and Higher Applied Research in Value Education & Science

ISSN: 2230-830 X

About Us

नैतिक मूल्यों के हृास के इस युग में आज यह सभी स्वीकारते हैं कि स्कूलों से ही मूल्यपरक शिक्षा अनिवार्य होनी चाहिए न कि बोझपरक शिक्षा। शिक्षा-दीक्षा को विश्व स्तर पर महत्वपूर्ण माना जाता है परन्तु इक्कीसवीं शदी में मनोवैज्ञानिकों ने जीवन-शिक्षा को सबसे महत्वपूर्ण बताया है क्योंकि इसके अभाव के कारण ही आज हमारे शिक्षण संस्थानों द्वारा शिक्षित अनैतिक लोगों का उत्पादन हो रहा है जिनमें रचनात्मकता का अभाव होता है। ऐसे शिक्षितों का मन हमेशा वर्तमान की गुत्थियों को सुलझाने के लिए अतीत के साथ व्यभिचार और भविष्य के साथ षड्यंत्र करता रहता है। ऐसे लोगों से समाज में बेइमानी की बोझ बढ़ रही है जबकि आज यह आवश्यक है कि व्यक्ति द्वारा ईमानदारी की लड़ाई लड़ी जाए और दूसरे व्यक्ति द्वारा इस्तेमाल होने से बचा जाए। वस्तुतः सत्य को अपने ही भीतर ढ़ूंढ़ना पड़ता है तथा परिवर्तन भी इंसान के वैयक्तिक स्तर पर ही पहले घटित होता है। इसलिए ‘जर्नल ऑफ़ पर्सनालिटी एण्ड सोशल साइन्सेज’ के रूप में अथर्वस् संस्था द्वारा एक ऐसी शोध-पत्रिका का उन्नयन किया गया है जो केवल जीवन-शिक्षा और क्रान्तिकारी सामाजिक दिशा हेतु कटिबद्ध शोधों का लोकार्पण करता रहेगा।
>